Author

Manikesh Kumar

"" तुम लौट आना उम्र जब तुम्हारे चेहरे प"

मणिकेश कुमार 'मोकामा' मणिकेश कुमार का जन्म बिहार के पटना जिले के एक छोटे शहर मोकामा में हुआ। मोकामा से उनका लगाव इतना है कि वो अपने नाम में मणिकेश कुमार के साथ ‘मोकामा’ भी लगाते हैं। उनका मानना है कि भावनाओं को व्यक्त करने के लिए सबसे अच्छा माध्यम कविता ही है। इन्होंने कई अलग-अलग विषयों पर कविताएँ लिखी हैं । मणिकेश रक्षा विभाग में कार्यरत हैं और वहाँ हर साल होने वाले हिंदी पखवाड़े या अन्य आयोजनों में इनकी कविताओं को कई दफा पुरस्कृत किया गया है। ‘वन-वे इश्क़’ मणिकेश की पहली किताब है और वे इस किताब को अपने पहले इश्क़ के रूप में भी देखते हैं। आप उन्हें अपने विचार मेल कर सकते हैं। ईमेल:- [email protected] पता:- सकरवार टोला, मोकामा जिला:- पटना (बिहार) पिन:- 803302 मोबाइल नम्बर:- 9471645726 " तुम लौट आना उम्र जब तुम्हारे चेहरे पर सिलवटों के रूप में पड़ी होंगी समय ने चाँदी की बारीक तारों से बींध दिए होंगे तुम्हारे बाल और आँखें तुम्हारी धुँधली-सी चादर ओढ़े ढूँढ़ रही होगी मुझे तब तुम लौट आना मुझसे मिलने मेरे पास...." 'वन-वे इश्क़'

Publisher PETALS PUBLICATION
Number of Books 1